कोरोना लॉकडाउन 4 के मार्गदर्शक तत्व में शामिल कन्टेनमेंट क्षेत्र में कोरोना पॉजिटिव मामलों को खोजने के लिए बीएमसी ने की उपेक्षा

संवाददाता नीरज शर्मा

गृह मंत्रालय द्वारा जारी लॉकडाउन 4.0 के दिशानिर्देशों में, केंद्र सरकार ने कोरोना पॉजिटिव मामलों का पता लगाने पर जोर देते हुए घर-घर निगरानी को लागू करने के साथ-साथ कन्टेनमेंट क्षेत्र में सभी उपाय करने के निर्देश जारी किए थे। आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली ने शिकायत है कि 17 मई, 2020 को अधिसूचना जारी होने के बावजूद, बीएमसी ने अब तक कोई कार्रवाई नहीं की है।

आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली द्वारा मुख्यमंत्री उद्धव बालासाहेब ठाकरे और बीएमसी आयुक्त इकबाल सिंह चहल को भेजी गई एक शिकायत में उन्होंने कहा कि गृह मंत्रालय द्वारा जारी लॉकडाउन 4.0 के दिशानिर्देशों में, केंद्र ने कोरोना पॉजिटिव मामलों का पता लगाने पर जोर दिया है। कोरोना पॉजिटि मामलों की पहचान करने और ऐसे मामलों को अलग से नियंत्रित करने के लिए स्वतंत्र रूप से और प्रभावी ढंग से उपचार करने के उद्देश्य से यह मामला लॉकडाउन 4.0 के दिशानिर्देशों में शामिल है। अनिल गलगली के पत्राचार के बाद, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने सुझाव को स्वीकार किया और कन्टेनमेंट क्षेत्र में उपायों का सुझाव दिया।

आज, मुंबई में रोगियों और मृत्यु दर की संख्या बढ़ रही है और मुंबई की बीएमसी ने दिशानिर्देशों की अनदेखी की है। अनिल गलगली ने आरोप लगाया है कि कन्टेनमेंट क्षेत्र में कोई उपाय नहीं किए जा रहे हैं और जहां भी नए मामले पाये जाते है, वहां कोरोना पॉजिटिव मामले पहले से थे। अनिल गलगली ने कहा कि कन्टेनमेंट क्षेत्र पूरी तरह से बंद है और इस क्षेत्र में सटीक और सुसंगत मामलों को खोजने से मुंबई को कोरोना के आगे के प्रसार से बचाया जा सकता है।

Share This

admin